jls

जो देखता हूँ, वही लिखता हूँ

392 Posts

7636 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3428 postid : 1168707

ग्रामाेदय से भारत उदय

  • SocialTwist Tell-a-Friend

झारखंड के जमशेदपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिला जनप्रतिनिधियों से देश के विकास कार्यों की चौकसी करने की अपील की. रविवार को पंचायती राज दिवस पर जन प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश की एक तिहाई ग्राम प्रधान महिलाओं से विकास कार्यों की निगरानी करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि संविधान निर्माता बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर के सपनों का भारत बनाने के लिए महिला जनप्रतिनिधियों को आगे आकर अपनी भूमिका निभानी होगी. उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में बच्चों के लिए चलाए जाने वाली मध्याह्न भोजन योजना के पैसों का लाभ सही जगह पहुंचे इसके लिए ग्राम सभा की महिला भागीदारों को इसकी देखभाल करनी होगी. महात्मा गांधी ने कहा था कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है. इसके बावजूद देश में शहरों और गांवों में विकास की रफ्तार में अंतर दिखता रहा. पहली बार केंद्र सरकार ने गांवों के विकास के लिए बजट में बड़ी रकम का प्रावधान किया है. इसका जरूरी लाभ गांव वालों को मिल सके इसलिए गांव के लोग ही आगे आकर योजनाओं को जमीन पर लाने में सहयोग करेंगे. उन्होंने कहा कि ग्रामीण भारत ने पांच सालों के लिए के मुझपर यकीन जताया है. मैं उनके भरोसे पर खड़ा उतरने की पूरी कोशिश कर रहा हूं. पंचायती राज की महिला प्रतिनिधियों से स्वच्छता अभियान के तहत गांवों में शौचालय निर्माण की सरकारी योजना को सफल बनाने की भी अपील की. महात्वाकांक्षी योजना को सफल बनाने में मदद करनी चाहिए. वहीं मां बनने वाली महिलाओं की मौत को रोकने के लिए स्वास्थ्य जागरूकता को बढ़ाने की भी उन्होंने अपील की. इसके साथ ही उन्होंने पल्स पोलियो अभियान को सार्थक बनाकर किसी बच्चे के अपंग होने पर रोक लगाने की भी अपील की.
पंचायती राज दिवस पर पीएम मोदी ने ग्राम उदय से भारत उदय योजना पर चर्चा की. उन्होंने कहा कि बाबा साहेब के गांव से शुरू हुआ यह अभियान बिरसा मुंडा की धरती पर होने के साथ ही काफी व्यापक हो गया है. उन्होंने कहा कि चिलचिलाती धूप में भी मंत्री और अधिकारी गांव तक जा रहे हैं. प्रतिनिधि को चाहिए कि पांच साल में ऐसा काम करें कि लोग उन्हें याद रखे. भारत सरकार को दिल्ली से बाहर निकालकर हिंदुस्तान के दूसरे प्रांतों में ले जाने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने कहा कि गांव को सड़क और बिजली मिलनी चाहिए. हमारे देश में 30 लाख जन प्रतिनिधि हैं. इनमे 40 फीसदी महिलाएं हैं. हमारी मां और बहनें नेतृत्व कर परिवर्तन ला सकती हैं. वो चाहें तो अपने गांव को सोशल हेल्थ कार्ड, बाल मित्र, हरित गांव, जल संचय, डिजिटल और दहेज मुक्त बनाने में सक्रिय भूमिका निभा सकती हैं.
पीएम मोदी ने कहा कि गांव में आज भी लकड़ी का चूल्हा जलाते हैं. इसकी वजह से हमारी मां-बहनें रोजाना 400 सिगरेट के बराबर धुएं लेती है. हमें उन्हें गैस चूल्हा देकर इस दिक्कत से निजात दिलाना है. इसके साथ ही नाम (NAM – नेशनल एग्रीकल्चरल मार्किट) योजना के तहत अब किसान तय करेगा कि अपने सामान कहां बेचे. हर गांव तक ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क पहुंचाया जाएगा.
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखंड सरकार ने भी सभी गांवों में योजना बनाओ अभियान चलाया है. साल 2016 तक सभी पंचायत भवन बन जाएंगे और 2017 तक इंटरनेट से जुड़ जाएंगे. उन्होंने कहा कि पानी की कमी के कारण सरकार इस साल ही तालाबों का निर्माण कर रही है ताकि गांव का बरसाती पानी गांव में रहे. गांव के विकास से ही पलायन रुकेगा.
क्या है ग्रामोदय से भारत उदय योजना ?
(14 अप्रैल, 2016 को डॉ. भीमराव अम्बेवडकर की 125वीं जयंती से आरंभ कर और 24 अप्रैल 2016 को पंचायती राज दिवस को समापन करते हुए, 14 अप्रैल से 24 अप्रैल, 2016 के बीच, केंद्र सरकार राज्यों और पंचायतों के सहयोग से, ‘ग्रामोदय से भारत उदय अभियान’ का आयोजन करेगी। अभियान का लक्ष्य समस्त गांवों में पंचायती राज व्यवस्था् को सुदृढ़ करके, सामाजिक सद्भाव बढ़ाने, ग्रामीण विकास को बढ़ावा देने, किसानों की प्रगति और गरीब लोगों की जीविका के लिए राष्ट्रव्यापी प्रयास करना है। 14 अप्रैल, 2016 को माननीय प्रधान मंत्रीजी मध्य प्रदेश के मऊ से ग्राम उदय से भारत उदय अभियान का शुभारंभ करेंगे। 24 अप्रैल, 2016 को माननीय प्रधान मंत्रीजी जमशेदपुर से देश की सभी ग्राम सभाओं को संबोधित करेंगे, जिसे देश के सभी गांवों में लाइव टेलिकास्ट और एयर किया जायेगा, जहां ग्रामीण एकत्रित होकर माननीय प्रधानमंत्रीजी के उद्बोधन को सुनेंगे। )
इसके पूर्व दिनांक 14 से 16 अप्रैल, 2016 के मध्यर पंचायती राज मंत्रालय और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से एक ‘सामाजिक समरसता कार्यक्रम’ का आयोजन सभी ग्राम पंचायतों में किया जाएगा। इस कार्यक्रम में, ग्रामीण, डॉ. अम्बेडकर का सम्मान करेंगे, और सामाजिक सद्भाव को मजबूत बनाने का संकल्प लेंगे। सामाजिक न्याम को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार की विभिन्न स्कीमों से संबंधित सूचना उपलब्ध करायी जाएगी। तदुपरांत, 17 से 20 अप्रैल 2016 के बीच ग्राम पंचायतों में ‘ग्राम किसान सभाएं’’ आयोजित की जाएंगी। इस कार्यक्रम का लक्ष्य कृषि को बढ़ावा देना है। इन सभाओं में कृषि से संबंधित स्कीमों जैसे कि फसल बीमा योजना, विषय में जानकारी उपलब्ध करायी जाएगी और कृषि में सुधार लाने के लिए, कृषकों के सुझाव प्राप्त किए जायेंगे। राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के लिए ग्राम सभा बैठकों के मुख्य समारोह से पूर्व, 10 राज्यों के पांचवी अनुसूची क्षेत्रों के जनजातीय महिला ग्राम पंचायत अध्यक्षों की एक राष्ट्रीय बैठक 19 अप्रैल 2016 को विजयवाड़ा में आयोजित की जाएगी जिसका मुख्यू विषय पंचायत और जनजातीय विकास होगा। देश भर में 21,22,23 और 24 अप्रैल, 2016 को ग्राम सभा बैठकें आयोजित की जायेगी। इस दिन, गांव में प्रभातफेरी, स्वच्छता पर कार्यक्रम, खेलकूद कार्यक्रम के साथ-साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम संपन्न किए जायेंगे। इन ग्राम सभाओं में चर्चा हेतु शामिल विषय निम्न वत होंगे :-
• स्थानीय आर्थिक विकास के लिए ग्राम पंचायत विकास योजनाएं, • पंचायती राज संस्थाआओं को प्रदाय राशि का ठीक उपयोग हेतु उपलब्ध, निधियां • स्वच्छ पेयजल एवं स्वच्छता • ग्राम एवं ग्रामीण विकास में महिलाओं की भूमिका • अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जन जातियों, दिव्यांग व अन्य हाशिए पर के वर्गों के कल्याण सहित सामाजिक समावेशन. सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए विभिन्नत योजनाओं से संबंधित जानकारी सुलभ करायी जायेगी।
24 अप्रैल 2016,पंचायती राज दिवस जमशेदपुर (झारखंड) में मनाया जाएगा, जिसमें देश भर से चयनित पंचायत प्रतिनिधि भाग लेंगे। माननीय प्रधान मंत्रीजी सभा को संबोधित करेंगे, और माननीय प्रधानमंत्रीजी का संदेश देश के सभी गांवों में प्रसारित किया जायेगा, जहां ग्रामीण इसे सुनने हेतु एकत्र होंगे। जन प्रतिनधि, केन्द्रय सरकार के अधिकारीगण तथा राज्यम सरकार के अधिकारी, ग्राम सभाओं में भाग लेंगे। ग्रामीणजन ग्राम एवं देश के विकास हेतु संकल्प करेंगे। बाबासाहेब डॉ भीमराव अम्बेडकर की 125 वीं जयंती के अवसर पर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों और पंचायतों के सहयोग से भारत उदय अभियान की शुरूआत की और इसका समापन 24 अप्रैल 2016 को जमशेदपुर में राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर देश भर के लगभग 6000 पंचायती राज प्रतिनिधियों के एक सम्मेलन के साथ होगा । इस सभा को प्रधान मंत्री व झारखंड के मुख्यमंत्री संबोधित करेंगे ।
स्थानीय समाचार पत्रों से- अभेद्य सुरक्षा घेरे में जे आर डी कॉम्पलेक्स, २४ को क्षेत्र में वाहनों के प्रवेश पर रोक. भारी चेकिंग के बाद पैदल जा सकेंगे. एस पी जी ने सम्हाली कमान. शहर में अभूतपूर्व सुरक्षा कि परिंदा भी पर न मार सके. बाहर से आये करीब ३००० जवान एअरपोर्ट से जे आर डी कॉम्पलेक्स तथा शहर के यातायात ब्यवस्था सम्हालेंगे. उस दिन सुबह ६ बजे से रात 11 बजे तक भारी वाहनों का प्रवेश वर्जित रहेगा. सब्जी फल आदि पहले से खरीद कर रख लें. कई स्कूलों में छुट्टी दे दी गयी है. पुलिस के जवान वहां डेरा डाले हुए हैं. सन्डे होने से ऑफिस बंद है. दूकानदार भी अपनी दुकानें कुछ घंटे बंद रक्खेंगे, मोदी जी के स्वागत में. टाटा स्टील और जुस्को के अधिकारी बिजली, पानी, सड़क की सर्वोत्तम ब्यवस्था के लिए कृतसंकल्प है. आखिर टाटा की इज्जत का सवाल है.
और जमशेदपुर में देश का ऐतिहासिक कार्यक्रम सफलता पूर्वक संपन्न हो गया. इसका भी सारा श्रेय जमशेदपुर प्रशासन को जाता है. कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं घटी और सभी अतिथि और प्रतिनिधि अपने साथ सकारात्मक सन्देश लेकर गए. पूरी तरह उम्मीद की जानी चाहिए कि अगर सभी पंचायत प्रतिनिधि अगर तन मन से काम करेंगे तो निश्चय ही भारत के सभी गांव संपन्न होंगे और जब गांव संपन्न होंगे तो देश भी संपन्न होगा. थोड़ा ध्यान जन प्रतिनिधियों, सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को देना होगा ताकि मोदी साहब का सपना पूरा हो सके और हम सभी खुशहाल हों.
- जवाहर लाल सिंह, जमशेदपुर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
April 30, 2016

जमशेदपुर में इस आयोजन क होना जमशेदपुर और झाड़खंड के लिए गर्व के बात है. इस आयोजन के सफल बनाने में स्थानीय प्रशासन और टाटा प्रबंधन पूरा पूरा सहयोग कहा जाएगा. कुछ लोग गर्मी से परेशान हुए, बीमार भी हुए पर उनकी भी समुचित चिकित्सा ब्यवस्था की गयी. झाड़खंड के मुख्य मंत्री रघुबर दास और खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री सरयू राय का यह विधान सभा क्षेत्र है इसलिए दोनों की भूमिका को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता.

Shobha के द्वारा
April 26, 2016

श्री जवाहर जी बहुत ज्ञान वर्धक लेख सबसे बड़ी बात तब मानी जाएगी जब गावों में ही रोजगार बढ़ेंगे लोग बड़े शहरों की और पलायन नहीं करेंगे आपके लेख द्वारा बहुत कुछ जानने को मिला जैसे डॉ भीमराव अम्बेडकर की 125 वीं जयंती के अवसर पर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों और पंचायतों के सहयोग से भारत उदय अभियान की शुरूआत की और इसका समापन 24 अप्रैल 2016 को जमशेदपुर में राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर देश भर के लगभग 6000 पंचायती राज प्रतिनिधियों के एक सम्मेलन के साथ होगा । इस सभा को प्रधान मंत्री व झारखंड के मुख्यमंत्री संबोधित करेंगे ।स्थानीय समस्यों और राजनीति पर आप सदैव बहुत अच्छा प्रकाश डालते हैं

    jlsingh के द्वारा
    April 27, 2016

    आदरणीया डॉ शोभा जी, सादर अभिवादन! गांवों की उपेक्षा शुरू से होती रही है तभी गांव के लोग शहरों की तरफ पलायन करते हैं जीतन मैंने हाल के बिहार को देखा है नीतीश कुमार ने भी गांवों के विकास के लिए बहुत काम किया है. अन्य राज्य भी इस अभियान को आगे बढ़ाएंगे तो अवश्य ही देश विकसित होगा. हम सब उम्मीद करते हैं कि पंचायत प्रतिनिधि, खासकर महिला प्रतिनिधि, जिनपर प्रधान मंत्री ने जोर देकर कहा है कि अगर वे चाह लें तो इसे सम्भव किया जा सकता है. यह भी उम्मीद की जाने चाहिए कि पुरुष वर्ग उन्हें ईमानदारी से काम करने देंगे. अन्य सरकारी अफसर को भी पूरा पूरा सहयोग करना चाहिए जैसा कि आयोजन को सफल बनाने में सबका योगदान रहा. सादर!

rameshagarwal के द्वारा
April 25, 2016

जय श्री राम जवाहर लाल जी बहुत अच्छा लेख लिखा बहुत दिनों बाद किसी प्रधान मंत्री ने गावो की तरफ ध्यान दिया यदि शुरू से ऐसा होता तो आज ये हालत नहीं होती देश में सूखा पड़ रहा विरोधी संसद में हल्ला मचाते .देश की जनता मोदी जी के इस कदम से बहुत खुश उम्मीद है जल्दी गावो के दिन अच्छे होंगे उम्मीद है प्रदेश भी इस दिश में कार्य करेंगे.

    jlsingh के द्वारा
    April 27, 2016

    आदरणीय अग्रवाल साहब, जय श्रीराम! हम सब उम्मीद करते हैं कि पंचायत प्रतिनिधि, खासकर महिला प्रतिनिधि, जिनपर प्रधान मंत्री ने जोर देकर कहा है कि अगर वे चाह लें तो इसे सम्भव किया जा सकता है. यह भी उम्मीद की जाने चाहिए कि पुरुष वर्ग उन्हें ईमानदारी से काम करने देंगे. अन्य सरकारी अफसर को भी पूरा पूरा सहयोग करना चाहिए जैसा कि आयोजन को सफल बनाने में सबका योगदान रहा. सादर!


topic of the week



latest from jagran