jls

जो देखता हूँ, वही लिखता हूँ

395 Posts

7644 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3428 postid : 1317929

एक आह्वान! बहनों और बेटियों के नाम! (अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर)

Posted On: 8 Mar, 2017 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

घोर चिंता का विषय, दुष्कर्म बनता जा रहा!
बात गैरों की नहीं, अपनों का डर सता रहा!
भारत-इण्डिया, लक्ष्मण-रेखा, नारियों के ही लिए !
समाधान, इन्साफ हो, चिंता भी इसकी कीजिये!

अमन व कानून के, रक्षक ही अब भक्षक बने!
ट्रेन से फेंका युवती को, आप यूं चलते बने!
इस धरा की नारियां, अब शस्त्र लेकर हाथ में,
जुल्म की वे दें सजा, ‘रूपम’ बने खुद आप में!

मोमबत्ती, भीड़ से अब हो नहीं सकता भला.
काट दो उस हाथ को, नारी नहीं है अबला!

“छीनता हो स्वत्व कोई, और तू त्याग तप से काम ले यह पाप है

पुण्य है विछिन्न कर देना उसे बढ़ रहा तेरी तरफ जो हाथ है”

दिनकर की ऐसी पक्तियां आज भी उपयुक्त है
शक्ति की देवी है तू, दे दंड गर तू भुक्त है
घर से बाहर तू निकल, शालीनता को साथ ले.
अनाचारी गर मिले, तो झट उसी का माथ ले.

काली, दुर्गा, लक्ष्मी बाई, सब तेरे ही रूप हैं
घर से बाहर आ निकल, ये जग नहीं कोई कूप है
लोक लज्जा क्या भला बस बेटियां सहती रहे.
और अपराधी दुराचारी सुवन घर में रहे!

हो नहीं सकता भला इस दानवी संसार में,
छोड़ ये मोमबत्तियां कटार लो अब हाथ में!
अम्ल की लो बोतलें, डालो रिपु के अंग पर!
पावडर मिर्ची की झोंको, नयन में उसे अंध कर!

आत्म रक्षा आप कर लो, रोकता अब कौन है?
कुछ नहीं बिगड़ेगा तेरा, क़ानून खुद मौन है!
कुछ नहीं बिगड़ेगा तेरा, क़ानून खुद मौन है!

जवाहर लाल सिंह, जमशेदपुर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
March 18, 2017

बहुत खूब, जिस दिन हमारी बहिन बेटियां आत्म रक्षा का गुर सिख जाएँगी उस दिन प्रजापति जैसे कमीने गुंडों से वे अपने को बचा पाएंगे और उन्हें ऐसा जमीन दिखाएंगे की फ़ी कभी उठ न पाएंगे ! अच्छी प्रस्तुति के लिए साधुवाद !

    jlsingh के द्वारा
    March 19, 2017

    आदरणीय चाचा जी, आपकी उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए आपका बहुत बहुत आभार!

Shobha के द्वारा
March 14, 2017

श्री जवाहर जी आत्म रक्षा आप कर लो, रोकता अब कौन है? कुछ नहीं बिगड़ेगा तेरा, क़ानून खुद मौन है! कुछ नहीं बिगड़ेगा तेरा, क़ानून खुद मौन है! लचर कानून पर अच्छा कटाक्ष

    jlsingh के द्वारा
    March 19, 2017

    सधी हुई और सकारात्मक प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार आदरणीय शोभा जी!

Alka के द्वारा
March 8, 2017

आदरणीय जवाहर जी , महिला दिवस पर नारी शक्ति के लिए बेहद प्रेरणादायक रचना |

    jlsingh के द्वारा
    March 9, 2017

    हार्दिक आभार आदरणीया अलका जी!

Alka के द्वारा
March 8, 2017

आदरणीय जवाहर , महिला दिवस पर नारी शक्ति के लिए बेहद प्रेरणादायक रचना |

    jlsingh के द्वारा
    March 9, 2017

    सार्थक और सकारात्मक प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार आदरणीया अलका जी!


topic of the week



latest from jagran