jls

जो देखता हूँ, वही लिखता हूँ

401 Posts

7665 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3428 postid : 1328602

न्याय मिला निर्भया को

Posted On: 5 May, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सदमे की सुनामी थी निर्भया कांड, राक्षस से कम नहीं थे ये चारों…SC की 10 बड़ी बातें
निर्भया कांड पर दोषियों की अपील पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट के जज बेहद तल्ख दिखे। उन्होंने एकतरफा इस अपील को खारिज कर दिया।
सुप्रीम कोर्ट ने 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में निर्भया के साथ हुए गैंगरेप के चारों आरोपियों की फांसी की सजा को बरकरार रखा है। अपने 15 मिनट तक पढ़े गए फैसले में कोर्ट ने वो 10 आधार बताए जिसकी वजह से चारो दोषियों को फांसी की सजा दी गई। कोर्ट ने अपने फैसले में बेहद तीखी टिप्पणी कर इस घटना को देश में सदमें की सुनामी करार दिया। वहीं दो‌षियों को राक्षसी दरिंदों से कम नहीं बताया।
निभर्या केस पर सुप्रीम कोर्ट की तल्ख टिप्पणी
1. जजों ने 2 बजकर 3 मिटनट पर फैसला पढ़ना शुरु किाया। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि चारों आरोपियों ने निर्भया के साथ जिस तरह का बर्बरता पूर्ण व्यवहार किया उससे ये साबित होता है कि अपने तरह का अनोखी घटना है।
2. यह मामला रेयरेस्ट आफ रेयर है। केस की मांग थी कि न्यायपालिका समाज के सामने एक मिसाल पेश करे।
3. निर्भया कांड में कोर्ट का फैसला आते ही अदालत कक्ष में तालियां बजीं।
4. अदालत ने कहा इस मामले में कोई रियायत नहीं दी जा सकती।
5. निर्भया कांड सदमे की सुनामी थी। जिस तरह से अपराध हुआ है वह एक अलग दुनिया की कहानी लगती है।
6. दोषियों ने हिंसा, सेक्स की भूख की वजह से अपराध किया।
7. वारदात को क्रूर और राक्षसी तरीके से अंजाम दिया गया।
8. उम्र, बच्चे, बूढ़े मां-बाप ये कारक राहत की कसौटी नहीं।
9. इस अपराध ने समाज की सामूहिक चेतना को हिला दिया।
10. पीडि़ता का मृत्यु पूर्व बयान संदेह से परे
अदालत ने विवेकानंद का उल्लेख करते हुए कहा कि देश के विकास को मापने का सबसे अच्छा थर्मामीटर है कि हम महिलाओं के साथ कैसे पेश आते हैं।
तीन जजों की बेंच में से एक जज भानुमति का फैसला शेष दो जजों से अलग है। जस्टिअस भानुमति जिएनका फैसला अन्य जजों से अलग रहा उन्होंने कहा किट हमारे यहां एजुकेशन सिनस्टम ऐसा होना चाहिजए जिाससे कि बच्चे महिालाओं के साथ कैसा व्यवहार करना है ये सीख सकें। जस्टिसस भानुमतिक ने स्वामी वििवेकानंद के एक कोट को रेफर करते हुए कहा किव कैसे परंपराएं ज्ञान और शिनक्षा के साथ मि लकर समाज में महिट लाओं के न्याय दिवलाने का काम करती हैं।
2012 में जब ये मामला सामने आया तब देशभर में इस मामले को लेकर ज़बरदस्त गुस्सा फूट पड़ा था. विदेशों में भी इस बलात्कार कांड को लेकर निंदा हुई थी. इस मामले में दोषियों की फांसी की सज़ा पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का सभी को इंतज़ार था. सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आते ही सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई.
ट्विटर पर लोग इस फ़ैसले का स्वागत कर रहे हैं, कई लोगों का कहना है कि अब निर्भया को न्याय मिला है. दीक्षा वर्मा ने लिखा है कि कभी कभी लोकतंत्र को सख्त और दयाहीन होना चाहिए, नहीं तो अपराधियों की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जाएगी. सोनम महाजन ने लिखा है ,”निर्भया के बलात्कारी को फांसी की सज़ा मिलनी चाहिए थी, इससे कम कोई सज़ा नहीं हो सकती थी. और उन सभी में वो कथित नाबिलग मोहम्मद अफ़रोज़ भी शामिल है.” तहसीन पूनावाला लिखते हैं,” निर्भयाकांड के बाद आज भी कई महिलाओं का बलात्कार हो रहा है, उनका शोषण हो रहा और न्याय नहीं दिया जा रहा. मुझे उम्मीद है कि आज हम उन सभी तक पहुंच पा रहे हैं.” अभिषेक सिंह ने लिखा है कि फांसी ही एक ऐसा तरीका है जिससे रेप रोके जा सकते हैं. पुरुषों को महिलाओं के साथ कुछ भी करने से पहले मौत का डर होना चाहिए. वहीं सिद्धी माथुर लिखती हैं कि निर्भया को न्याय मिला लेकिन आधा. सुप्रीम कोर्ट को उस क्रूर नाबालिग को भी सज़ा देनी चाहिए. किशोर भट्ट लिखते हैं कि नाबालिग को भी फांसी देनी चाहिए. अगर वो इतना बड़ा था कि रेप कर सके तो सज़ा भी काट सकता है. वहीं कवि श्री कुमार विश्वास ने लिखा है, ” बहन निर्भया हम शर्मिंदा हैं कि हम सबके रहते ऐसा हुआ. ईश्वर तुम्हारी आत्मा को संतोष दे कि निर्मम गुनाहगारों को आख़िर सज़ा मिली.”
“जिन लोगों ने मेरे साथ ये गंदा काम किया है उन्हें छोड़ना मत ” ये वाक्य डीसीपी साउथ छाया शर्मा को निर्भया ने तब कहे थे जब छाया उससे पहली बार सफ़दरजंग अस्पताल में मिलने गई थी. छाया ने मीडिया से बात करते हुए कहा. “दिल्ली पुलिस ने जो सबूत पेश किए है वो एकदम ठोस है,” सप्रीम कोर्ट के तीन जजों ने फ़ैसला देते हुए कहा. “इन सभी आरोपियों को सज़ा निर्भया के कारण ही मिली है. वो अपने बयान पर निरंतर क़ायम रही ”
उन्हें आज भी वो दिन याद है जब वो 23 साल की निर्भया से वह पहली बार मिली थी. “उसकी हालत बहुत ख़राब थी. उससे बोला नहीं जा रहा था लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी,”. निर्भया ने पहला अपना बयान अस्पताल के डॉक्टर को दिया फिर एसडीएम और फिर जज के सामने. तीनों बार वो अपने बयान पर क़ायम रही. उसने ऐसी छोटी छोटी बातें अपने बयान में बोली जो आख़िर कर पुलिस के लिए बहुत अहम साबित हुई. निर्भया की मौत के पहले के इन बयानों को डाइइंग डिक्लेरेशन माना गया. निर्भया की मौत हादसे के 13 दिन बाद सिंगापुर में हुई.
अपराध होने के 18 घंटो के अंदर पहले आरोपी बस ड्राइवर रामसिंह को गिरफ़्तार किया. “पूछताछ के बाद सभी आरोपी गिरफ़्तार कर लिए गए,”. आज जब सप्रीम कोर्ट ने पुलिस की जांच पर मुहर लगते हुए आरोपियों को सज़ा सुनाई तब जो पुलिस वाले इस तफ्तीश से जुड़े थे उनके चेहरों से परेशानी कुछ समय के लिए ग़ायब हो गई. सब अपनी की हुई तफ़तीश पर फक्र करने लगे. “हमने इस मामले में आरोप पत्र सिर्फ़ 18 दिन में कोर्ट में पेश किया था. वो आरोप पत्र इतना पक्का था कि तीन अदालतों ने उस को सही ठहराया. अगर उसमें कोई ख़ामी होती तो सप्रीम कोर्ट आज हमें ही टांग देती.”
इसमें कोई दो राय नहीं कि लगभग साढ़े चार सालों बाद आखिरी फैसला सुप्रीम कोर्ट से आ गया, जिसका सबको बेसब्री से इन्तजार था. लेकिन तब से अब तक पूरे देश में लाखों घटनाएँ हो चुकी हैं जिनमे औसतन सिर्फ ३०% को ही सजा मिल पाती है वह भी काफी जद्दोजहद के बाद. काफी घटनाएँ तो ऐसे माहौल में घटित हो जाती हैं जिनकी रिपोर्टिंग तक नहीं होती. तीन साल तक की बच्ची से लेकर वृद्धा तक के साथ ऐसे हादसे होते रहते हैं और समाज सुधरने का नाम नहीं ले रहा. एक तो वातावरण ही इतना विषाक्त हो गया कि हम सभी आध्यात्म और सात्विकता से दूर भागते चले जा रहे हैं. दूसरा स्त्रियों के प्रति पुरुषवादी सोच शुरू से हवी रहा है. विधाता ने स्त्रियों को शारीरिक रूप से कमजोर बनाया है और थोड़ी वे मन से भी कमजोर होती हैं जिसका कारण हमारा सामाजिक पारिवारिक वातावरण है. कुछ तो करना होगा ताकि ऐसे आपराधिक घटनाएँ घटे ही नहीं. हमारे बुद्धिजीवी, मनीषी, ऋषि, योगी, नीतिनिर्धारक, विधिवेत्ता, सामजिक कार्यकर्ता, नेता सभी को मिलकर इस पर गंभीर रूप से विचार करने की आवश्यकता है. केवल नारा और भाषणबाजी से तो कुछ होता जाता नहीं है. धरातल पर काम होने चाहिए. उत्तर प्रदेश के योगी जी ने एंटी रोमियो स्क्वाड के ही जरिये कुछ कदम उठाया तो है जिससे काफी लड़कियां और महिलाएं राहत महसूस कर रही हैं. सभी राज्य सरकारों को ऐसे कदम उठाने चाहिए और शराब आदि नशा पर तो प्रतिबन्ध लगाने ही चाहिए क्योंकि ज्यादातर अपराध शराब के नशे में होते हैं.
हमें न्यायधीशों, पुलिसकर्मियों, डॉक्टरों और वकीलों के प्रति सम्मान व्यक्त करना चाहिए जिन्होंने न्याय दिलाने में अपना जी जान लगा दिया. एक बार पुन: कह सकते हैं सत्यमेव जयते और भारत माता की जय! जय हिन्द!
- जवाहर लाल सिंह, जमशेदपुर!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Rajesh Kumar Srivastav के द्वारा
May 16, 2017

न्याय का उद्देश्य किसी को सजा देना नहीं अपराध को शेष करना होता है / क्या इस तरह के एकतरफे पुरुषों को जिम्मेवार मानकर उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दे देने से इस तरह के अपराध सेष हो जायेंगे / पिछले ही सप्ताह इसी तरह की एक और कुकृत्य की खबर मिली तो यह मन में स्वाभाविक रूप से प्रश्न उठा की क्या अपराधियों के सजा से यह अपराध सेष हो पायेगा / शायद कभी नहीं / इस अपराध के अन्य पहलुओं पर भी विचार करने चाहिए और एकतरफा पुरुषों को जिम्मेवार मानने की परंपरा को बदलना चाहिए /

    jlsingh के द्वारा
    June 12, 2017

    कुछ हद तक आपका कहना भी जायज है पर पुरुष क्रूरता के खिलाफ न्याय होना चाहिए चाहे कारन जो हो. आपकी परतिक्रया का हार्दिक आभार !

Shobha के द्वारा
May 14, 2017

श्री जवाहर जी निर्भया के आरोपियों को फांसी के निर्णय पर कायम रहना निर्भया ही नहीं उन सभी के साथ न्याय होगा जो विक्टिम रही हैं कठोर दंड ही महिलाओं बच्चियों को समाज में सुरक्षित रख सकता है विस्तार से लिखा गया बहुत अच्छा लेख मानवाधिकार वादी फांसी की सजा का दिन तय होने के बाद शोर मचाएंगे

    jlsingh के द्वारा
    June 12, 2017

    जी आदरणीया शोभा जी , विलम्ब से ही सही न्याय हुआ तो है पर अपराध काम होने का नाम नहीं ले रहा चिंता की बात है. सादर!

harirawat के द्वारा
May 8, 2017

बेटे जवाहरलाल, आयुष्मान ! सुप्रीमकोर्ट के फैसले को जन जन तक पहुंचाने के लिए बधाई ! इतना जघन्य अफराधियों को मौत की सजा सुनाने में हमारे न्यायालयों को पांच साल लगे वो भी तब जब की देश की सारी जनता इन छह नर पिचासों के दरिंदे के लिए इन्हें जल्दी से जल्दी फांसी पर चढाने के लिए बाहर सड़कों पर निकल आए थे ! अभी भी इन पापियों के अपवित्र बोझ को धरती माँ को कुछ और दिनों तक बहन करना पडेगा, और वो पांचवा राक्षस जो अभी तक नाबालिक का तगमा लगाता फिर रहा था उसे तो मुफ्त में ही छूट मिल गयी, सजा तो उसे भी मिलेगी, रेपिष्ट, हत्यारे, भट्टी में भूने जाते है, ये कुदरत का न्याय्य है ऐसा सूना है !!

    jlsingh के द्वारा
    June 12, 2017

    आदरणीय चाचा जी, सादर प्रणाम . ऐसा लगता आजकल कुदरत इन दुष्कर्मियों पर मेहरबान है इसीलिये तो घटनाएं दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है. फिर भी न्यायिक प्रक्रिया को और सरल और त्वरित गति से निपटने की आवश्यकता है. सादर!

rameshagarwal के द्वारा
May 8, 2017

जय श्री राम आदरणीय जवाहर सिंह जी बहुत ही मर्म और राष्ट्र को झकझोर करने वाले विषय में आपने विस्तार से लिखा इसके लिए बधाई.ऐसे आसुरी अपराध के लिए कठोर सजा ही उपयुक्त थे.इससे अपराधियो को सन्देश जाएगा.उम्मीद है याकूब मेनन की तरह इनको बचने में मानववादी नहीं आयेंगे.और पुनर्याचिका और राष्ट्रपति से माफी का मामला ज्यादा देर नहीं लगाएगा और जल्दी फांसी दे दी जायेगी.

    jlsingh के द्वारा
    June 12, 2017

    वैसे भी काफी देर हो चुकी है आदरणीय अग्रवाल साहब और घटनाएं रो हो रही है अब तो ज्यादातर केस में पीड़िता को मार दिया जा रहा है ताकि वह अपराधी बच जाय ! आपकी प्रतिक्रिया का हार्दिक आभार!

sadguruji के द्वारा
May 6, 2017

आदरणीय जवाहर लाल सिंह जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! एक बेहद महत्वपूर्ण और सामयिक मुद्दे पर आपने जो कुछ भी लिखा है, वो सही है ! आपकी इस बात से सहमत हूँ कि पुरानी पुरुषवादी सोच और समाज में दिनोदिन कम हो रही सात्विकता के कारण स्त्रियों पर अत्याचार बढ रहे हैं ! इसके लिए काफी हद तक हमारी हिन्दी फिल्मे भी जिम्मेदार हैं, जो औरत को मनोरंजन के एक साधन के रूप मे पर्दे पर भड़कीले वस्त्रों मे या फिर अर्धनग्न रूप से प्रस्तुत करती हैं ! माननीय सुप्रीम कोर्ट ने अच्छा निर्णय दिया है ! ऐसे दरिंदों को तो सार्वजनिक रूप से फांसी देनी चाहिये ! सादर आभार !

    jlsingh के द्वारा
    June 12, 2017

    आलेख पढ़ने और प्रतिक्रिया देने के लिए हार्दिक आभार आदरणीय सद्गुरु जी!


topic of the week



latest from jagran